समुद्र की 23 हजार फीट गहराई में मिला 78 साल पहले डूबा जहाज

मनीला। फिलीपीन सागर में 23 हजार फीट गहराई में 78 साल पहले डूबा जहाज ढूंढ़ निकाला गया है। अमेरिकी नौसेना के लिए बनाया गया यह जहाज द्वितीय विश्व युद्ध में जापान के साथ लड़ाई में डूब गया था।

द्वितीय विश्व युद्ध में अमेरिकी नौ सैनिक विमान ‘यूएसएस सैमुअल बी रॉबर्ट्स’ ने लेयते खाड़ी की बड़ी लड़ाई ‘बैटल ऑफ समर’ में जापान से मोर्चा लिया था। इस विमान को सैमी-बी के नाम से भी जाना जाता था। अक्टूबर 1944 में जापान के साथ हुई इस आमने सामने की लड़ाई में 15 अक्टूबर 1944 को जापानियों ने फिलीपींस के तट पर मित्र देशों की नौसेना को पीछे हटाने के लिए गोलाबारी की, जो पश्चिम के रास्ते पर थी। जापानी बेड़ा जहाज पर भारी पड़ा लेकिन यह पानी में तैरता रहा। गोलाबारी में दीवारें क्षतिग्रस्त होने के बाद यह पानी में डूब गया। जहाज पर उस वक्त 224 लोग सवार थे, जिसमें से 89 की मौत हो गई थी। जिंदा बचे लोग 50 घंटों तक नाव पर तैरते रहे, इसके बाद उन्हें बचाया गया।

अब 78 साल बाद फिलीपीन सागर में गोताखोरों को डूबे हुए जहाज का मलबा मिला है। यह मलबा 23 हजार फीट (6,895 मीटर) की गहराई में मिला। वैसे इस मलबे की खोज वैज्ञानिकों ने नहीं की है। इसे टेक्सास के अरबपति विक्टर वेस्कोवो ने खोजा है, जिनके पास एक डीप-डाइविंग सबमर्सिबल है। यह विमान दो भागों में टूटा हुआ मिला। यह अब तक सबसे गहराई में खोजा गया मलबा है। इससे पहले वेस्कोवो ने पिछले साल 21,223 फीट की गहराई में यूएसएस जॉनस्टन को खोजा था। यह अंतिम बचे अमेरिकी जहाजों में से एक था जिसे जापानियों के खिलाफ अपनी बहादुरी के लिए जाना जाता है। वेस्कोवो ने ट्विटर पर एक वीडियो साझा करते हुए लिखा, समुद्र के तल में ‘सैमी बी’ को देखा जा सकता है। ऐसा लग रहा है इसका अगला हिस्सा तेजी के साथ तल से टकराया था, जिस वजह से यह क्षतिग्रस्त हो गया है। खोजी दल ने 17 और 24 जून के बीच छह बार गोता लगाने के बाद इसमें सफलता पाई। 18 जून को तीन-ट्यूब वाले टॉरपीडो लांचर की मदद से मलबा ढूंढने में कामयाब रहे।

Loading...