प्रदेश में कानून व्यवस्था ठीक होने की उम्मीद कैसे की जा सकती है,विवेक तिवारी हत्याकांड में सिर चढ़कर बोल रही राजनीति

  मध्य प्रदेश के दौरे से लौटे समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आते ही विवेक तिवारी हत्याकांड को लेकर प्रदेश सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि जब भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पर ही आपराधिक केस हैं तो प्रदेश में कानून व्यवस्था ठीक होने की उम्मीद कैसे की जा सकती है। उन्होंने सवाल उठाया कि आप किसलिए सरकार में हो, क्या लोगों को गोली मारने के लिए?अखिलेश ने सोमवार को विवेक के घर जाकर उनकी पत्नी और बच्चों से मुलाकात की। इस दौरान पत्रकारों से उन्होंने कहा कि ये दर्दनाक घटना है, यह पहली बार नहीं है कि पुलिस पर उंगली उठी है। याद कीजिए उस सुमित गुर्जर की घटना को लेकर पूरा पश्चिमी उप्र आंदोलन कर रहा था। सजा तो लोकतंत्र में एक ही है सरकार हटे। आप क्या लोगों को मारने के लिए सरकार में हैं। यह सरकार भय पैदा करने का काम कर रही है। अखिलेश ने कहा कि पूरा मामला सरकार छिपा रही है, पुलिस छिपा रही ह, और पुलिस क्यों छिपा रही है, कम से कम सच्चाई तो सामने आए। सरकार के लोग बता सकते हैं कि सना को नजरबंद क्यों किया गया है?

इससे पहले पार्टी मुख्यालय में पत्रकारों से वार्ता में पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जब विधानसभा में सीएम ही डरावने शब्दों का प्रयोग करेंगे तो पुलिस आम लोगों पर गोली चलाएगी ही। राज्य में यह कोई पहली घटना नहीं है। इसी तरह नोएडा में एक कार्यक्रम से लौट रहे जितेंद्र यादव को पुलिस ने गोली मारकर उसका जीवन बर्बाद कर दिया। आज वह कुछ कर नहीं सकता। अलीगढ़ में पुलिस ने निर्दोषों का एनकाउंटर किया। अखिलेश ने कहा कि एनकाउंटर को लेकर मानवाधिकार आयोग से जितनी नोटिस भाजपा सरकार को मिली है, उतनी किसी सरकार को नहीं मिली है।

ब्राह्मणों पर हो रहा ज्यादा अत्याचार : मायावती

लखनऊ : विवेक तिवारी हत्याकांड को लेकर गरमाई सियासत में आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल के बाद बहुजन समाज पार्टी मुखिया मायावती ने भी विवादित बयान दे माहौल को चुनावी रंग देने की कोशिश की है। जातिवाद का दांव चलते हुए मायावती ने इस घटना को ब्राह्मण समाज से जोड़ा। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा के शासन काल में ब्राह्मणों पर कुछ ज्यादा ही अन्याय व अत्याचार हो रहा है।

सोमवार को जारी किए बयान में बसपा प्रमुख ने आरोप लगाया कि प्रदेश में जब से भाजपा सरकार बनी है तब से दलितों, पिछड़ों व मुस्लिमों के साथ अपरकास्ट विशेष रूप से ब्राह्मण समाज के ऊपर अत्याचार बढ़ा है जिसका बसपा पुरजोर विरोध करती है। विवेक तिवारी की नृशंस हत्या से सरकार का घिनौना चेहरा बेनकाब हुआ है। पीडि़त परिवार को न्याय देने के बजाए सरकार केवल लीपापोती कर मामले को दबाने की कोशिश कर रही है।

बसपा प्रमुख ने बिगड़ी कानून व्यवस्था के मुद्दे पर भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकारों की द्वेषपूर्ण व पक्षपाती नीतियों के कारण हालात बेकाबू होते जा रहे है।

पुलिस बर्बर व निरंकुश हो चुकी है और बहन-बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। ऐसी सरकारों से इन्साफ की उम्मीद करना फिजूल है। उन्होंने घटना की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग करते हुए कहा कि पीडि़त परिवार चाहेगा तो पार्टी के वरिष्ठ नेता और वकील सतीश मिश्रा उनके पक्ष में मुफ्त पैरवी करने को तैयार है। मायावती ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री योगी की जगह मैं होती तो दोषी अफसरों के खिलाफ एक्शन ले लेती। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार के मंत्री पीडि़त परिवार से मिलकर फोटो खिंचवाने व सस्ती लोकप्रियता बटोरने में लगे है।

प्रदेश सरकार चला रही रोको और ठोको अभियान : सतीश चंद्र मिश्र

बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने भी विवेक की पत्नी कल्पना और पीडि़त परिवार से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार इस समय लखनऊ में रोको और ठोको अभियान चला रही है। इस घटना में पुलिस अधिकारियों द्वारा साक्ष्य मिटाने की कोशिश की जा रही है। पुलिस अधिकारी ही पूरे मामले को दबाने में लगे हैं। ऐसे में एसआइटी की जांच पर कैसे भरोसा किया जा सकता है। सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि शासन को चाहिए कि एसआइटी की जांच किसी न्यायिक अधिकारी के नेतृत्व में कराए। वह और उनके साथ के अधिवक्ता लोअर कोर्ट से लेकर हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक परिवार की न्यायिक मदद करेंगे।

सोनिया गांधी ने फोन पर की कल्पना से बात

दोपहर संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी के प्रतिनिधि किशोरी लाल शर्मा विवेक के घर पहुंचे। उन्होंने कल्पना की फोन पर सोनिया गांधी से वार्ता कराई। किशोरी लाल के अनुसार सोनिया गांधी ने कल्पना से कहा कि वह इस दुख की घड़ी में परिवार के साथ हैं। उनके स्तर पर परिवार की हर तरह से मदद की जाएगी। गौरतलब है कि एक दिन पहले कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर ने भी विवेक की पत्नी और बच्चों से मुलाकात की थी।

सपा-बसपा अपने शासनकाल की अराजकता भी याद करे : महेंद्र

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने भी कल्पना और उनकी बेटियों से मिलकर परिवार का दर्द बांटा। उन्हें भरोसा दिया कि भाजपा संगठन और सरकार उनके साथ है। इसके साथ ही उन्होंने सपा, बसपा की सियासत को भी कटघरे में खड़ा किया। कहा कि दोनों दलों को अपने शासनकाल की अराजकता को भी याद करना चाहिए।

कल्पना ने डॉ. पांडेय से अफसरों के रवैये को लेकर कुछ संदेह जाहिर किया और कहा कि अफसर गुमराह कर सकते हैं। डॉ. पांडेय ने कहा कि इस मामले में पूरी तरह न्याय होगा।

एक पुलिसकर्मी की करतूत से लाखों पुलिसकर्मियों के बारे में कोई धारणा नहीं बनाई जा सकती। उन्होंने सपा, बसपा और कांग्रेस को जातिवाद, परिवार और भ्रष्टाचार का पर्याय बताते हुए कहा कि जो जातिगत आधार पर टिप्पणी कर रहे हैं उन्होंने शायद अरविंद केजरीवाल के ट्वीट पर कल्पना तिवारी का बयान नहीं सुना और देखा। कहा, अपराध को जाति और संप्रदाय से नहीं जोड़ा जा सकता है।

रीता जोशी और बीकेटी विधायक भी पहुंचे

महिला एवं बाल कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी, बीकेटी विधायक अविनाश त्रिवेदी भी पीडि़त परिवार से मिलने पहुंचे। उन्होंने सरकार से हर प्रकार की मदद दिलाने का आश्वासन दिया।

 

Loading...
IGNITED MINDS