विदिशा और सागर के 65 यात्रियों से भरी बस चित्रकूट जिले के कर्वी मुख्यालय के पास झांसी-मिर्जापुर हाईवे पर पलट गई।

 विदिशा और सागर के 65 यात्रियों से भरी बस चित्रकूट जिले के कर्वी मुख्यालय के पास झांसी-मिर्जापुर हाईवे पर पलट गई। हादसे में बस में सवार 40 यात्री घायल हो गए, इनमें से कुछ घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जबकि 20 गंभीर घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि ये सभी पूर्वजों का पिंडदान करने के लिए जा रहे थे।विदिशा और सागर के 65 यात्रियों से भरी बस चित्रकूट जिले के कर्वी मुख्यालय के पास झांसी-मिर्जापुर हाईवे पर पलट गई।घायल तीर्थ यात्रियों ने बताया कि सोमवार को श्री विश्वनाथ तीर्थ यात्रा संघ के माध्यम से सभी राहतगढ़, सागर व विदिशा शहर से डबल डेकर बस पर सवार होकर गुरुवार सुबह करीब चार बजे इलाहाबाद व वाराणसी जाने के लिए निकले थे। कर्वी मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर रैपुरा थानांतर्गत भौंरी के पास हाईवे की निर्माणाधीन पुलिया तरकहवा के पास बस चालक ने आगे चल रहे वाहन को ओवरटेक करने की कोशिश की, तभी अचानक सामने आए ट्रक ने टक्कर मार दी। इससे घबराया चालक चलती बस कूद गया। अनियंत्रित बस कुछ दूर जाकर पलट गई। इससे बस पर सवार तीर्थ यात्रियों में चीख पुकार मच गई। तकरीबन 40 लोग घायल हुए हैं। इनमें करीब 20 ज्यादा घायलों को कर्वी मुख्यालय के सोनपुर स्थित जिला अस्पताल लाया गया है

मुन्नी बाई (60) पत्नी ओमकार, गौराबाई (55) पत्नी जीवन लाल, जीवन लाल (60) पुत्र बाला प्रसाद, शांति बाई (52) मान सिंह, ब्रजबाला (50) पत्नी रतन सिंह, मुन्ना (53) पुत्र ललकू, नाथूराम (63) पुत्र हलके, लक्षमी बाई (48) पत्नी मुन्ना लाल, लक्ष्मण सिंह (60) पुत्र शिशुपाल सभी निवासी प्योंदा थानाक्षेत्र जिला विदिशा, मध्य प्रदेश। करण सिंह (70) पुत्र चुन्ना प्रसाद विदिशा और माया बाई (48) पत्नी राजाराम निवासी राहत गढ़ सागर, मध्य प्रदेश।

Loading...
IGNITED MINDS