उत्तर प्रदेश से आज की बड़ी खबरें – पढ़ें बस एक क्लिक पर

 पति ने पत्नी को मारपीट कर पुलिस नीचे फेंका 

शाहजहांपुर। जिले में एक महिला को उसके पति ने कथित रूप से मारपीट कर अर्धनग्न अवस्था में गर्रा पुल के नीचे फेंक दिया। महिला को गंभीर हालत में इलाज के लिए लखनऊ भेजा गया है। जानकारी के अनुसार गुरुवार सुबह गर्रा पुल के नीचे एक महिला अर्धनग्न अवस्था में पुलिस को पड़ी मिली। जिसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल भेजा गया वहां से इलाज के लिए लखनऊ भेज दिया गया है। महिला की पहचान अंजली (24) के रूप में हुई। जानकारी पर अंजली की माँ जगरानी ने कोतवाली पहुंचकर पति आकाश समेत तीन लोगों पर दहेज एक्ट सहित अन्य गंभीर धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है। आरोप है कि पति आकाश एवं उसके परिजनों ने बुधवार रात अंजलि को काफी मारा पीटा तथा उसे पुल के नीचे फेंक दिया जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

शिवपाल अपने दल का भाजपा में करें विलय-केषव

कानपुर। प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने समाजवादी पार्टी से अलग होकर हाल में समाजवादी सेक्युलर मोर्चा गठित करने वाले पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव को अपनी पार्टी का भाजपा में विलय करने का न्यौता दिया है। उप मुख्यमंत्री मौर्य ने गत दिवस यहां प्रेस कांफ्रंेस में कहा कि शिवपाल चाहें तो अपने मोर्चे का भाजपा में विलय कर सकते हैं। उनका स्वागत है। मगर फिलवक्त भाजपा के पास किसी दल के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की गुंजाइश नहीं है। उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि विपक्षी दलों का गठबंधन बने। तब भाजपा उत्तर प्रदेश में लोकसभा की 80 में से 73 से ज्यादा सीटें जीतने के प्रति सबसे अधिक आश्वस्त होगी। अनुसूचित जाति-जनजाति उत्पीड़न अधिनियम में बदलाव को लेकर सवर्णों में नाराजगी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि सरकार इस कानून का दुरुपयोग नहीं होने देगी।

पुरानी रंजिश को लेकर दो सगे भाइयों की हत्या

लखनऊ। प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कथित रूप से पुरानी रंजिश को लेकर दो सगे भाइयों की गोली मारकर हत्या कर दी गयी। जानकारी के अनुसार ठाकुरगंज क्षेत्र में बुधवार देर रात अरमान (18) और उसके भाई इमरान (20) की कुछ लोगों ने पुरानी रंजिश के चलते लाठी-डंडांे से पीटने के बाद कनपटी से सटाकर गोली मार दी। इमरान और अरमान को ट्रामा संेटर ले जाया गया जहां दोनों की मौत हो गयी। वारदात मंे मारे गये दोनों युवक अपने दोस्त निशांत के साथ कार से जा रहे थे, तभी मोटरसाइकिल और कार सवार हमलावरों ने जल संस्थान के पास उन्हें जबरन रोक लिया। उसके बाद दोनों पक्षों में तकरार और मारपीट शुरू हो गयी। बाद में आरोपियों ने दोनों को गोली मार दी। इस मामले में साहिल नामक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। बाकी आरोपियों चीना तथा शिवम की तलाश की जा रही है। घटना के बाद क्षेत्र में तनाव को देखते हुए मौके पर पीएसी तैनात की गयी है।

राम मंदिर का शीघ्र समाधान निकाले मोदी सरकार-महंत नृत्य गोपाल दास

अयोध्या। केन्द्र मे मोदी और राज्य मे योगी सरकार के रहते हुए श्रीरामजन्म भूमि पर मंदिर निर्माण मे हो रही देरी अब जन्म भूमि न्यास अध्यक्ष मणिराम दास छावनी के महंत नृत्य गोपाल दास महाराज को अखरने लगी है। वह चाहते हैं कि इस बहुप्रतिक्षित विषय का समाधान मोदी सरकार शीघ्र निकाले। उनका कहना है कि न्यायालय में यह विवाद 70 वर्षो से है, न्यायविद इसकी नियमित सुनवाई के प्रति संवेदनशील हो लेकिन जनजागरण और सरकार को ध्यान दिलाना हमारा मौलिक और धार्मिक अधिकार भी है।

न्यास अध्यक्ष दिल्ली के आर.के पुरम् मे शुक्रवार 5 अक्टूबर को आयोजित संत उच्चाधिकार समिति की बैठक मे गुरुवार को रवाना होते हुए अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने कहा श्रीराम जन्मभूमि पर कारसेवको ने अस्थाई तौर पर ही सही मंदिर बना दिया है बस उस स्थान को भव्यता देना शेष है। जिसकी प्रतिक्षा हिन्दू समाज लगातार अपनी आहूति देकर करता आ रहा है। आज श्रीराम जन्मभूमि पर विराजमान राम लला को टेंट में देखकर समाज उद्वेेलित हो जाता है। समाज स्वंय प्रश्न करता है कि सरकारों के प्रतिनिधि वातानुकुलित बड़े-बड़े भव्य भवनों में आनन्द प्राप्त कर रहे है और दुनिया को छत देने वाले खुद कपड़े के मंदिर में ठंडी, गर्मी और वर्षात का सामना तो कर ही रहे है साथ ही कैदियों की भांति पुलिस के अभेद्य सुरक्षा मे जकड़े हुये है। उन्होंने कहा अनेक सरकारांे मे आंदोलन हुआ गोलियां खायी, लोग जेलों में बंद हो प्रताड़ित हुए फिर भी संकल्प से हटे नहीं और ना आगे हटने वाले है। उन्होंने कहा हिन्दू समाज को मोदी जी के आने से आशा बंधी है परन्तु कब तक? उन्होंने कहा इसी लिए देश के प्रमुख संतो की यह बैठक होने जा रही है। धर्माचार्य अपनी भावनाओं से अवगत ही नहीं करायेंगे बल्कि आगे ठोस कदम उठायेंगे।

मोबाइल फोन पर दिया ‘तीन तलाक‘रू मुकदमा दर्ज

बहराइच। जिले में भारत-नेपाल के सीमावर्ती रूपईडीहा इलाके में रह रही एक विवाहिता को दहेज की मांग पूरी न होने पर सऊदी अरब में रह रहे उसके पति ने कथित रूप से मोबाइल फोन पर ‘तीन तलाक’ दे दिया। जानकारी के अनुसार रूपईडीहा क्षेत्र निवासी नूरी (20) ने थाने में शिकायत दर्ज कराई कि उसका विवाह एक साल पहले रूपईडीहा के ही नई बस्ती के रहने वाले चांदबाबू से हुआ था। शादी के एक हफ्ते बाद से ही उससे दहेज में मोटरसाइकिल तथा 50 हजार रुपये की मांग की जाने लगी।

नूरी का कहना है कि शादी के कुछ माह बाद उसका शौहर काम के सिलसिले में सऊदी अरब चला गया। उसके बाद उसकी सास और ननद दहेज की मांग को लेकर कर उसे प्रताड़ित करने लगे। आरोप है कि गत 10 सितम्बर को नूरी की सास राबिया, ननद मीना ने फिर दहेज की मांग दोहरायी। उसी दिन शौहर चांदबाबू ने मोबाइल फोन पर भी वही मांग की। नूरी द्वारा असमर्थता जताने पर चांदबाबू ने उसे फोन पर ही तीन तलाक दे दिया। उसके बाद उसे घर से निकाल दिया गया। बीती शाम आरोपी पति, सास तथा ननद के विरूद्ध मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण अध्यादेश (धारा 314), दहेज अधिनियम (धारा 3 व 4) तथा मारपीट एवं जान से मारने की धमकी देने के आरोप मंे मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जा रही है।

खड़े कंटेनर से टकरायी कार, दो की मौत

इटावा। जिले में गुरुवार को आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर एक कार के सड़क किनारे खड़े कंटेनर से जा टकराने से दो लोगों की मौत हो गयी तथा इतने ही अन्य घायल हो गये। जानकारी के अनुसार आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर सुबह चैबिया थाना क्षेत्र में दिल्ली से बिहार जा रहे लोगों से भरी एक कार सड़क पर पहले से खराब खड़े कंटेनर से जा टकरायी। इस हादसे में कार सवार भूपेन्द्र यादव (30) एवं राजेश यादव (40) की मौके पर ही मौत हो गयी। दोनों बिहार के मधुबनी के रहने वाले थे। हादसे में घायल दो अन्य लोगों को सैफई के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने शवों का पोस्टमार्टम कराया है।

श्रद्धालुओं से भरी बस पलटी, 35 यात्री घायल, पांच गंभीर

चित्रकूट। उत्तर प्रदेश में चित्रकूट जिले के रैपुरा क्षेत्र में गुरुवार को श्रद्धालुओं से भरी एक बस के पलटने से 35 यात्री घायल हो गए जिनमें पांच की हालत गंभीर बतायी गयी है। जानकारी के अनुसार राष्ट्रीय राजमार्ग 76 पर यह हादसा उस समय हुआ जब तरकहवा पुरवा गांव में निर्माणाधीन पुलिया के निकट एक बस अनियंत्रित होकर पलट गयी जिसने बैठे 35 तीर्थयात्री घायल हो गए हैं। घायलों में पांच की हालत चिंताजनक है। सभी को जिला चिकित्सालय में भर्ती करा दिया गया है। बताया गया है कि सभी यात्री मध्यप्रदेश के सागर और विदिशा के हैं जो चित्रकूट से कामतानाथ जी के दर्शन कर इलाहाबाद जा रहे थे। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक बस के इंजन या ब्रेक में कोई तकनीकी खराबी थी, जिसकी वजह से बस पलट गई। बस में 64 यात्री सवार थे। अभी तक किसी की मौत की सूचना नहीं है।

यूपी में डीजल-पेट्रोल ढाई-ढाई रुपए प्रति लीटर हुआ सस्ता 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार ने तेल के दामों के ऐतिहासिक ऊंचाई छूने से परेशान उपभोक्ताओं को गुरूवार को राहत देते हुए पेट्रोल-डीजल की कीमतों में ढाई रुपये प्रति लीटर की कटौती की एलान किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रेस कांफ्रेंस में केंद्र सरकार की ओर से पेट्रोल-डीजल के दाम में ढाई रुपये प्रति लीटर की कमी करने के निर्णय के बाद यह घोषणा की। इससे प्रदेश में पेट्रोल-डीजल की कीमतें कुल पांच रुपये प्रति लीटर घट जाएंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार ने ईंधन की कीमतों में ढाई रुपये की कटौती का एलान किया है। लिहाजा उत्तर प्रदेश सरकार ने भी तेल के दामों में इतने ही रुपये की कमी का निर्णय लिया है। पिछले कई दिनों से यह मांग हो रही थी कि तेल के दाम में हो रही बढ़ोत्तरी में कमी लाने की दिशा में प्रयास किये जाने चाहिये। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा राज्य है। यहां खपत भी सबसे ज्यादा होती है। इस राज्य में पिछले कई वर्षों से इसके दाम पर कोई अतिरिक्त कर नहीं लगाया है, लेकिन आम जनता की मदद के लिये सरकार ने यह निर्णय लिया है। उत्तर प्रदेश में देश के कई राज्यों के मुकाबले तेल के दाम कम हैं। इस कटौती से हमें चार हजार करोड़ रुपये का सालाना नुकसान होगा, मगर जनता के हित में हमने यह कदम उठाया है। पेट्रोल और डीजल के दामों में इस कटौती से उपभोक्ताओं को खासी राहत मिलेगी। लखनऊ में आज पेट्रोल के दाम 83.35 रुपये और डीजल के दाम 75.63 रुपये थे, जो ऐतिहासिक रूप से ऊंचाई को छू चुके हैं। वहीं इससे पहले पूर्व केन्द्रीय वित्त मंत्री जेटली ने दिल्ली में डीजल और पेट्रोल पर ढाई रुपये प्रति लीटर की राहत देने की घोषणा की। उन्होंने राज्य सरकारों से भी वैट में इतनी ही कटौती करने का आह्वान किया था।

कुम्भ मेले में कमर तक पानी उपलब्ध कराने के दिये निर्देश

लखनऊ। प्रदेश के सिंचाई एवं सिंचाई (यांत्रिक) मंत्री धर्मपाल सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि आगामी कुंभ मेले में श्रद्धालुओं को स्नान के लिए पर्याप्त पानी की उपलब्धता सुनिश्चित की जाये। उन्होंने कहा कि इस बार कुम्भ मेले में कमर से ऊपर तक पानी होना चाहिए। श्री सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि इसके लिए अभी से सम्बंधित विभागों एवं अधिकारियों से तैयारियों के बारे में समन्वय स्थापित करना सुनिश्चित करें।

सिंचाई मंत्री गुरुवार को यहां कुंभ मेले में विभाग की तैयारियों तथा अन्य विभागीय कार्यों की समीक्षा के दौरान उपरोक्त निर्देश दिये। श्री सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि प्रत्येक जिले में लुप्त हो चुकी नदियों को चिन्हित कर पुर्नजीवित करने की कार्य योजना पर तत्काल आवश्यक कदम उठाये। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय जनता, विधायक, सांसद, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य तथा अन्य जन प्रतिनिधियों के सहयोग से एक जन आन्दोलन चलाकर नदियों की साफ-सफाई मिट्टी को निकाल कर उसकी जल संचयन की क्षमता की वृद्धि करें। उन्होंने कहा कि नदियाँ साफ, स्वच्छ एवं अविरल रहें, इसके लिए सभी लोगों को गम्भीरता से प्रयास करना होगा। श्री सिंह ने कहा कि हमारे देश की सम्पदा देश में बहने वाली नदियाँ है। उन्होंने अधिकारियों को कतिपय नदियों के पुनर्जीवन के सम्बंध में गठित समिति द्वारा अब तक की गयी कार्यवाही की अद्यतन स्थिति से तत्काल अवगत कराने के निर्देश दिये। सिंचाई मंत्री ने राष्ट्रीय परियोजनाओं की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया। उन्होंने अधिकारियों को इसमें और अधिक तेजी लाने के निर्देश दियें। श्री सिंह ने अधिकारियों को वर्षों से लंबित राष्ट्रीय परियोजनाओं को वर्ष 2019 एवं 2020 तक हर-हाल में पूर्ण करने के निर्देश दिये।

साहब सिंह सैनी विधान परिषद के वैध सदस्य बने रहने योग्य-राज्यपाल

लखनऊ। प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने विधान परिषद सदस्य साहब सिंह सैनी से संबंधित याचिका को ‘भारत का संविधान’ के अनुच्छेद 192 के खण्ड (1) के अंतर्गत निस्तारित करते हुये कहा है कि साहब सिंह सैनी विधान परिषद, उत्तर प्रदेश के वैध सदस्य बने रहने योग्य हैं। उल्लेखनीय है कि साहब सिंह सैनी वर्ष 2015 में समाजवादी पार्टी से विधान परिषद उत्तर प्रदेश के सदस्य निर्वाचित हुये थे।

ज्ञातव्य हो कि उच्च न्यायालय इलाहाबाद में वर्ष 2018 में योजित याचिका में श्रीमती सुमित्रा सैनी द्वारा साहब सिंह सैनी के विरूद्ध आरोप लगाये गये थे कि वह साहब सिंह सैनी की एकमात्र विवाहिता पत्नी हैं परन्तु साहब सिंह सैनी ने वर्ष 2015 में विधान परिषद उत्तर प्रदेश की सदस्यता हेतु निर्वाचन प्रक्रिया में अपने नामांकन प्रपत्रों में प्रस्तुत शपथ पत्र में श्रीमती रीता वासुदेव का नाम पत्नी के रूप में अंकित कर मिथ्या कथन अंकित किया था। उच्च न्यायालय इलाहाबाद ने श्रीमती सुमित्रा सैनी की याचिका पर दो जुलाई, 2018 को आदेश पारित किया कि श्रीमती सुमित्रा सैनी सक्षम प्राधिकारी के समक्ष लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 125-ए के अंतर्गत प्रत्यावेदन योजित करें। आदेश की एक-एक प्रति राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री को प्रेषित करते हुये प्रकरण में आवश्यक कार्यवाही कर उच्च न्यायालय को भी सूचित करने को कहा गया था।

राज्यपाल ने 23 जुलाई, 2018 को ‘भारत का संविधान’ के अनुच्छेद 192 के खण्ड (2) के अंतर्गत साहब सिंह सैनी के प्रकरण को भारत निर्वाचन आयोग, नई दिल्ली को उनके अभिमत हेतु संदर्भित किया था। भारत निर्वाचन आयोग ने 14 सितम्बर, 2018 को राज्यपाल को प्रेषित अपने अभिमत में कहा कि साहब सिंह सैनी उक्त प्रकरण में विधानतः विधान परिषद की सदस्यता से निरर्हित (अयोग्य) घोषित किए जाने योग्य नहीं हैं। भारत निर्वाचन आयोग, नई दिल्ली से प्राप्त अभिमत के आधार पर राज्यपाल ने ‘भारत का संविधान’ के अनुच्छेद 192 के खण्ड (1) के अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुये निर्णय लिया कि साहब सिंह सैनी विधान परिषद, उत्तर प्रदेश के वैध सदस्य हैं तथा उक्त प्रकरण में विधानतः विधान परिषद की सदस्यता से निरर्हित (अयोग्य) किये जाने के योग्य नहीं हैं। राज्यपाल ने अपने आदेश की एक-एक प्रति उच्च न्यायालय इलाहाबाद तथा भारत निर्वाचन आयोग, नई दिल्ली को भी प्रेषित कर दी है। साहब सिंह सैनी उत्तर प्रदेश में पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी की सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं।

इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल आज से, छह हजार से अधिक प्रतिनिधि लेंगे हिस्सा

लखनऊ। उप्र की राजधानी लखनऊ में पहली बार कल से इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल का आयोजन होने जा रहा है। आठ अक्टूबर तक चलने वाले इस फेस्टिवल में देश भर के छह हजार से ज्यादा प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्द्धन के साथ संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि प्रदेश की राजधानी को पहली बार इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल की मेजबानी मिली है। सरकार ने इसे एक अनोखे इवेंट के रूप में प्रस्तुत करने में पूरा सहयोग दिया है। उन्होंने कहा कि कल से आठ अक्टूबर तक यह चार दिवसीय आयोजन किया गया है। यह खुद में उत्तर प्रदेश के लिये एक अवसर है। साथ ही यह नौजवानों, छात्र-छात्राओं, नवोदित वैज्ञानिकों के लिये देश दुनिया में हो रहे नवोन्मेष को जानने का अवसर होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस फेस्टिवल में कुल 6000 डेलीगेट्स और ढाई हजार से ज्यादा छात्र-छात्राएं प्रतिभाग करेंगे। साथ ही लखनऊ तथा उसके आसपास के विद्यालयों के बच्चे भी स्पेशल विजिट करेंगे। इससे उनमें जानने और सीखने का भाव जाग्रत होगा। उन्होंने कहा कि इस साइंस फेस्टिवल के अवसर पर 3000 से ज्यादा बच्चे फस्र्ट एड के बारे में विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। राज्य सरकार ने केन्द्र से मिलकर इसकी पूरी तैयारी कर ली है। इस अवसर पर विभिन्न अतिथियों, जिनमें केन्द्रीय मंत्री तथा अन्य राज्यों के विशिष्ट जन होंगे, उन्हें राज्य सरकार ने राजकीय अतिथि का दर्जा दिया है।

केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डा. हर्षवर्द्धन ने इस अवसर पर कहा कि हमने इस आयोजन के लिये पिछले एक महीने में 77 शहरों में आउटरीच कार्यक्रम किये, जिनमें पांच हजार से लेकर 15 हजार तक वैज्ञानिकों और विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया। हमने बड़े शहरों में कर्टेन रेजर इवेंट किये। उन्होंने कहा कि लखनऊ में आयोजित होने वाले इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में 200 से ज्यादा इनोवेशन को यहां दिखाया जाएगा। इससे बच्चों को प्रेरणा मिलेगी। यह महिला उद्यमियों के लिये विशेष आयोजन होगा। इसमें 800 महिला उद्यमी हिस्सा लेंगे। हर्षवर्द्धन ने कहा कि फेस्टिवल मंे पर्यावरण से जुड़े विषयों का भी समावेश किया है। इस कार्यक्रम में पर्यावरण विशेषज्ञ भी हिस्सा लेंगे।

तेल कंपनियों के गिरते शेयरों को बचाने के लिए की दामों में कटौती-अखिलेष

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा की केन्द्र सरकार का पेट्रोल-डीजल की कीमतों में ढाई रूपये की कमी करने का नाटक जनता को बहकाने-भटकाने की उनकी साजिश का ही हिस्सा है। आज उसने ऊंट के मुंह में जीरा जैसी जो राहत दी है वह तो पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में लाकर दी जा सकती थी। केन्द्र और राज्य में तो भाजपा की डबल इंजन सरकारें हैं फिर भी पीएम और सीएम ने जनता को खौलते मंहगे तेल में खूब झुलसाया है। उन्होंने कहा कि एक बात साफ है कि भाजपा सरकार ने यह निर्णय जनता को राहत देने के लिए नहीं बल्कि तेल कम्पनियों के लगातार ध्वस्त होते शेयरों को बचाने के लिए किया है। भाजपा सरकार पेट्रोलियम उत्पादों से 10 लाख रूपए तक की अतिरिक्त कमाई करने के बाद मामूली क्षणिक राहत दे रही है। लेकिन जनता इसके झांसे में आने वाली नही है।

सपा मुखिया ने गुरूवार को यहां जारी बयान में कहा कि 2014 में सŸाा में आने के बाद से भाजपा सरकार पेट्रोल पर 9.48 पैसे की एक्साइज डयूटी को 17.98 रूपए एवं डीजल पर 3.56 रूपए प्रतिलीटर की एक्साइज डयूटी को 13.83 रूपये प्रति लीटर बढ़ा चुकी है। चूंकि अब चुनाव सिर पर है और भाजपा की नाव डगमगा रही है। यह क्या गारंटी है कि अब पेट्रोलियम पदार्थो के दाम नहीं बढ़ेंगे। इस लुका छिपी के खेल से जनता खूब परिचित है इसलिए भाजपा अपने कुप्रचार से जनता को गुमराह करने पर लगी है। वस्तुतः सस्ते कच्चे तेल का फायदा जनता को नहीं मिला। सारा मुनाफा केन्द्र सरकार ने पहले ही ले लिया है। केंद्र सरकार पहले ही बिना सब्सिडी वाली रसोई गैस में 59 रूपए की बढ़ोŸारी कर चुकी है और मध्यम वर्ग की कमर तोड़ चुकी है। भाजपा सरकार की नीति और नीयत दोनों जनविरोधी है और उसे जनता को परेशान करने में ही सुख मिलता है। जनता को भाजपा के सŸाा में रहते आगे भी सिर्फ परेशानियां ही मिलनी है। भाजपा के विरूद्ध 2019 में जनता का आक्रोश रंग लाएगा।

Loading...
IGNITED MINDS