FIFA World Cup: ऑस्ट्रेलिया और फ्रांस होंगे आमने-सामने

फीफा वर्ल्ड कप के 21वें संस्करण में आज दोपहर 3:30 बजे ग्रुप-सी में ऑस्ट्रेलिया का सामना पूर्व विजेता फ्रांस से कजान एरिना में होगा. ऑस्ट्रेलिया का यह छठा वर्ल्ड कप है, जिसकी वो जीत के साथ शुरुआत करना चाहेगी.फीफा वर्ल्ड कप के 21वें संस्करण में आज दोपहर 3:30 बजे ग्रुप-सी में ऑस्ट्रेलिया का सामना पूर्व विजेता फ्रांस से कजान एरिना में होगा. ऑस्ट्रेलिया का यह छठा वर्ल्ड कप है, जिसकी वो जीत के साथ शुरुआत करना चाहेगी.  ऑस्ट्रेलिया के लिए हालांकि यह मैच किसी भी लिहाज से आसान नहीं रहने वाला है. दिदिर डेसचेम्पस की फ्रांस को खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा है. वह हर लिहाज से ऑस्ट्रेलिया से बेहतर टीम है.  ऑस्ट्रेलिया के वर्ल्ड कप में क्वालिफाई करने के बाद ही कोच एग्ने पोस्टेकोग्लु ने टीम के कोच पद से इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद मारविक को टीम का नया कोच घोषित किया गया.  नए कोच नहीं चाहते कि वह टीम के अभियान की शुरुआत हार से हो. ऐसे में वह रक्षात्मक रणनीति के साथ मैदान पर उतर सकते हैं. ऐसे में गोलकीपर मैट रेयान के ऊपर बड़ी जिम्मेदारी होगी, जबकि डिफेंसिव लाइन वही हो सकती है जो हंगरी के खिलाफ उतरी थी.  FIFA वर्ल्ड कप: रोनाल्डो ने हैट्रिक लगा हार बचाई, पुर्तगाल-स्पेन मैच 3-3 से ड्रॉ  मिडफील्ड में कोच, जैक्सन इरवाइन को मौका दे सकते हैं. वहीं आक्रमण पंक्ति का मुख्य हिस्सा टोमिक ज्यूरिख हैं, जिन पर टीम काफी हद तक निर्भर है.  वहीं, फ्रांस की बात की जाए तो उसकी आक्रमण पंक्ति बेहद शानदार है, जो किसी भी डिफेंस को भेद सकती है. अटैक की जिम्मेदारी एंटोनी ग्रीजमैन पर होगी, लेकिन उनका साथ देने के लिए कयलियान मबप्पे और स्पेनिश क्लब बार्सिलोना के लिए खेलने वाले युवा ओयुसमाने डेमबेले हैं.  मिडफील्ड में पॉल पोग्बा की और एनगोलो कान्ते की जोड़ी का खेलना तय है. कोच इस जोड़ी के साथ छेड़छाड़ नहीं करेंगे.

ऑस्ट्रेलिया के लिए हालांकि यह मैच किसी भी लिहाज से आसान नहीं रहने वाला है. दिदिर डेसचेम्पस की फ्रांस को खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा है. वह हर लिहाज से ऑस्ट्रेलिया से बेहतर टीम है.

ऑस्ट्रेलिया के वर्ल्ड कप में क्वालिफाई करने के बाद ही कोच एग्ने पोस्टेकोग्लु ने टीम के कोच पद से इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद मारविक को टीम का नया कोच घोषित किया गया.

नए कोच नहीं चाहते कि वह टीम के अभियान की शुरुआत हार से हो. ऐसे में वह रक्षात्मक रणनीति के साथ मैदान पर उतर सकते हैं. ऐसे में गोलकीपर मैट रेयान के ऊपर बड़ी जिम्मेदारी होगी, जबकि डिफेंसिव लाइन वही हो सकती है जो हंगरी के खिलाफ उतरी थी.

मिडफील्ड में कोच, जैक्सन इरवाइन को मौका दे सकते हैं. वहीं आक्रमण पंक्ति का मुख्य हिस्सा टोमिक ज्यूरिख हैं, जिन पर टीम काफी हद तक निर्भर है.

वहीं, फ्रांस की बात की जाए तो उसकी आक्रमण पंक्ति बेहद शानदार है, जो किसी भी डिफेंस को भेद सकती है. अटैक की जिम्मेदारी एंटोनी ग्रीजमैन पर होगी, लेकिन उनका साथ देने के लिए कयलियान मबप्पे और स्पेनिश क्लब बार्सिलोना के लिए खेलने वाले युवा ओयुसमाने डेमबेले हैं.

मिडफील्ड में पॉल पोग्बा की और एनगोलो कान्ते की जोड़ी का खेलना तय है. कोच इस जोड़ी के साथ छेड़छाड़ नहीं करेंगे.

Loading...
IGNITED MINDS