ब्रिटिश मीडिया ने फैलाई रक्षा मंत्री सीतारमण के बारे में झूठी अफवाह

ब्रिटिश मीडिया की एक खबर के अनुसार ब्रिटेन के रक्षामंत्री गेविन विलियमसन ने भारत की उनकी समकक्ष निर्मला सीतारमण के साथ  साथ बैठक करने से इनकार कर दिया है. इससे निर्मला ने अफवाह और बकवास बताया है. ब्रिटिश मीडिया के मुताबिक सीतारमण लंदन में ‘ब्रिटेन-भारत सप्ताह’ बैठक में शामिल होने वाली थीं.‘द संडे टाइम्स’ की खबर के अनुसार विलियमसन ने सीतारमण से 20 से 22 जून के बीच सुरक्षा सहयोग और रक्षा खरीद को लेकर द्विपक्षीय वार्ता पर मिलने से इनकार कर दिया.कार्यक्रम में दो दिवसीय सम्मेलन और ब्रिटेन-भारत पुरस्कार में सीतारमन शामिल होने वाली थीं.ब्रिटिश मीडिया की एक खबर के अनुसार ब्रिटेन के रक्षामंत्री गेविन विलियमसन ने भारत की उनकी समकक्ष निर्मला सीतारमण के साथ  साथ बैठक करने से इनकार कर दिया है. इससे निर्मला ने अफवाह और बकवास बताया है. ब्रिटिश मीडिया के मुताबिक सीतारमण लंदन में ‘ब्रिटेन-भारत सप्ताह’ बैठक में शामिल होने वाली थीं.‘द संडे टाइम्स’ की खबर के अनुसार विलियमसन ने सीतारमण से 20 से 22 जून के बीच सुरक्षा सहयोग और रक्षा खरीद को लेकर द्विपक्षीय वार्ता पर मिलने से इनकार कर दिया.कार्यक्रम में दो दिवसीय सम्मेलन और ब्रिटेन-भारत पुरस्कार में सीतारमन शामिल होने वाली थीं.   सीतारमण ने ट्विटर पर इसे ‘निराधार खबर’ करार दिया. उन्होंने कहा, ‘संडे टाइम्स (ब्रिटेन) से निराश हूं. बिल्कुल निराधार खबर. ब्रिटेन और भारत के बीच मजबूत संबंध हैं. बैठक के लिए परस्पर सहमति से तारीख पर चर्चा चल रही है और मैं बैठक चाहती हूं.’ समाचार पत्र ने ब्रिटिश सरकार के एक सूत्र के हवाले से कहा कि लोग इसे लेकर बहुत नाराज हैं. सूत्र ने कहा कि भारत का रक्षा बजट विश्व के तेजी से बढ़ते रक्षा बजटों में से एक है जिसमें वर्ष में 50 अरब डालर के करीब खर्च होता है. ऐसा लगता है कि यह विलियमसन का एक और बिना सोचा समझा निर्णय है.  खबर में कहा गया है कि विलियमसन पर आरोप है कि उन्होंने अपनी भारतीय समकक्ष सीतारमण को नजरंदाज करके विश्व की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था वाले देश को नाराज कर दिया है. लंदन और बकिंघमशायर में 18 से 22 जून के बीच आयोजित ब्रिटेन-भारत सप्ताह के संस्थापक मनोज लाडवा ने कहा कि अगर विलियमसन ने कुछ वक्त निकाला होता तो वास्तव में अच्छा रहता, लेकिन हमें यह नहीं कहना चाहिए कि बैठक के लिए भारतीय काफी बेकरार थे. 

सीतारमण ने ट्विटर पर इसे ‘निराधार खबर’ करार दिया. उन्होंने कहा, ‘संडे टाइम्स (ब्रिटेन) से निराश हूं. बिल्कुल निराधार खबर. ब्रिटेन और भारत के बीच मजबूत संबंध हैं. बैठक के लिए परस्पर सहमति से तारीख पर चर्चा चल रही है और मैं बैठक चाहती हूं.’ समाचार पत्र ने ब्रिटिश सरकार के एक सूत्र के हवाले से कहा कि लोग इसे लेकर बहुत नाराज हैं. सूत्र ने कहा कि भारत का रक्षा बजट विश्व के तेजी से बढ़ते रक्षा बजटों में से एक है जिसमें वर्ष में 50 अरब डालर के करीब खर्च होता है. ऐसा लगता है कि यह विलियमसन का एक और बिना सोचा समझा निर्णय है.

खबर में कहा गया है कि विलियमसन पर आरोप है कि उन्होंने अपनी भारतीय समकक्ष सीतारमण को नजरंदाज करके विश्व की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था वाले देश को नाराज कर दिया है. लंदन और बकिंघमशायर में 18 से 22 जून के बीच आयोजित ब्रिटेन-भारत सप्ताह के संस्थापक मनोज लाडवा ने कहा कि अगर विलियमसन ने कुछ वक्त निकाला होता तो वास्तव में अच्छा रहता, लेकिन हमें यह नहीं कहना चाहिए कि बैठक के लिए भारतीय काफी बेकरार थे.

Loading...
IGNITED MINDS