मलेशिया में चैनल खोलने जा रहा है जाकिर नाईक

विवादित इस्लामिक प्रचारक जाकिर नाईक इन दिनों मलेशिया में है और खबर है कि वहा अपना नया चैनल खोलने जा रहा है. इस मामले पर भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रविश कुमार ने कहा, ‘भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से जाकिर नाईक का प्रस्ताव अभी पेंडिंग है. उनको जमीन दिए जाने के मामले में अभी कुछ भी कह पाना आसान नहीं है… इस फोरम पर हम कुछ नहीं कह सकते.’विवादित इस्लामिक प्रचारक जाकिर नाईक इन दिनों मलेशिया में है और खबर है कि वहा अपना नया चैनल खोलने जा रहा है. इस मामले पर भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रविश कुमार ने कहा, 'भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से जाकिर नाईक का प्रस्ताव अभी पेंडिंग है. उनको जमीन दिए जाने के मामले में अभी कुछ भी कह पाना आसान नहीं है... इस फोरम पर हम कुछ नहीं कह सकते.'  नाईक के भारत प्रत्यर्पण के बारे में भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, 'हमने इस साल जनवरी में आपराधिक मामलों के आधार पर जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण के लिए औपचारिक अनुरोध किया था. इस स्थिति में मैं सिर्फ यही कह सकता हूं कि हमारा प्रत्यर्पण अनुरोध मलेशिया प्रशासन की ओर से विचाराधीन है.'  उन्होंने आगे कहा, ' हम मलेशिया सरकार के साथ लगातार संपर्क में हैं. पिछले हफ्ते विवादित इस्लामिक प्रचारक जाकिर नाईक ने मलेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद से मुलाकात जिसके एक दिन पहले ही मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर बिन मोहम्मद ने जाकिर नाईक को प्रत्यर्पित कर भारत भेजने से मना किया है. प्रधानमंत्री मोहम्मद ने कहा था कि जब तक वह हमारे देश में कोई दिक्कत खड़ी नहीं कर रहे हैं तब तक उनका प्रत्यर्पण नहीं किया जाएगा. जाकिर को मलेशिया की नागरिकता भी प्राप्त है.

नाईक के भारत प्रत्यर्पण के बारे में भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘हमने इस साल जनवरी में आपराधिक मामलों के आधार पर जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण के लिए औपचारिक अनुरोध किया था. इस स्थिति में मैं सिर्फ यही कह सकता हूं कि हमारा प्रत्यर्पण अनुरोध मलेशिया प्रशासन की ओर से विचाराधीन है.’

उन्होंने आगे कहा, ‘ हम मलेशिया सरकार के साथ लगातार संपर्क में हैं. पिछले हफ्ते विवादित इस्लामिक प्रचारक जाकिर नाईक ने मलेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद से मुलाकात जिसके एक दिन पहले ही मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर बिन मोहम्मद ने जाकिर नाईक को प्रत्यर्पित कर भारत भेजने से मना किया है. प्रधानमंत्री मोहम्मद ने कहा था कि जब तक वह हमारे देश में कोई दिक्कत खड़ी नहीं कर रहे हैं तब तक उनका प्रत्यर्पण नहीं किया जाएगा. जाकिर को मलेशिया की नागरिकता भी प्राप्त है.

Loading...
IGNITED MINDS