बरेली में लगातार दूसरे दिन लापरवाही, टूटी पटरी पर जाने से बची पाटलिपुत्र एक्सप्रेस

बरेली जंक्शन पर रेलवे की लापरवाही जारी है। अमरनाथ एक्सप्रेस के दो दिन पहले दुर्घटनाग्रस्त होने से बचने की अभी जांच शुरू ही हुई है कि आज पाटलिपुत्र एक्सप्रेस टूटी पटरी पर जाने से बच गई। बरेली जंक्शन पर रेलवे की लापरवाही जारी है। अमरनाथ एक्सप्रेस के दो दिन पहले दुर्घटनाग्रस्त होने से बचने की अभी जांच शुरू ही हुई है कि आज पाटलिपुत्र एक्सप्रेस टूटी पटरी पर जाने से बच गई।    बरेली के मीरगंज नगरिया सादात के पास आज बड़ा रेल हादसा बच गया। यहां पर पाटलिपुत्र एक्सप्रेस टूटी पटरी से गुजरने से बाल-बाल बच गई। यहां अगर केबिनमैन ट्रैक पर लाल झंडी लेकर नहीं दौड़ता तो शायद गाड़ी डिरेल हो जाती। रेलवे कंट्रोल को सूचना मिलते ही महकमे में खलबली मच गई। क्लिप प्लेट बांधकर गाड़ी को गुजारा गया।  आज बरेली में सुबह करीब साढ़े सात बजे चंडीगढ़-पाटलिपुत्र एक्सप्रेस आ रही थी। नगरिया सादात के पास केबिनमैन ने एक जगह पर ट्रैक को टूटे देखा। इतनी देर में गाड़ी टूटे ट्रैक से करीब 500 मीटर दूर पहुंच गई। इसके बाद केबिनमैन ने स्टेशन मास्टर को दौड़ते-दौड़ते सूचना दी। खुद लाल झंडी लेकर एक्सप्रेस की ओर डाउन लाइन पर दौड़ा। लाल झंडी देखते ही लोको पायलट ने गाड़ी की रफ्तार को नियंत्रित कर लिया। इसके बाद भी ट्रेन टूटे ट्रैक तक पहुंच गई। पीडब्ल्यूआई और रेलपथ निरीक्षक आदि मौके पर पहुंचे। इसके बाद ट्रैक पर क्लिप प्लेट को लगवाया। करीब एक घंटे के बाद गाड़ी को गुजारा गया। दिल्ली की ओर से आने वाले तीन गाडिय़ों को मिलक, रामपुर में रोका गया। डीआरएम ने मामले की जांच को आदेश दिए हैं।

बरेली के मीरगंज नगरिया सादात के पास आज बड़ा रेल हादसा बच गया। यहां पर पाटलिपुत्र एक्सप्रेस टूटी पटरी से गुजरने से बाल-बाल बच गई। यहां अगर केबिनमैन ट्रैक पर लाल झंडी लेकर नहीं दौड़ता तो शायद गाड़ी डिरेल हो जाती। रेलवे कंट्रोल को सूचना मिलते ही महकमे में खलबली मच गई। क्लिप प्लेट बांधकर गाड़ी को गुजारा गया।

आज बरेली में सुबह करीब साढ़े सात बजे चंडीगढ़-पाटलिपुत्र एक्सप्रेस आ रही थी। नगरिया सादात के पास केबिनमैन ने एक जगह पर ट्रैक को टूटे देखा। इतनी देर में गाड़ी टूटे ट्रैक से करीब 500 मीटर दूर पहुंच गई। इसके बाद केबिनमैन ने स्टेशन मास्टर को दौड़ते-दौड़ते सूचना दी। खुद लाल झंडी लेकर एक्सप्रेस की ओर डाउन लाइन पर दौड़ा। लाल झंडी देखते ही लोको पायलट ने गाड़ी की रफ्तार को नियंत्रित कर लिया। इसके बाद भी ट्रेन टूटे ट्रैक तक पहुंच गई। पीडब्ल्यूआई और रेलपथ निरीक्षक आदि मौके पर पहुंचे। इसके बाद ट्रैक पर क्लिप प्लेट को लगवाया। करीब एक घंटे के बाद गाड़ी को गुजारा गया। दिल्ली की ओर से आने वाले तीन गाडिय़ों को मिलक, रामपुर में रोका गया। डीआरएम ने मामले की जांच को आदेश दिए हैं। 

Loading...
IGNITED MINDS