14 दिन के लिए जेल भेजा गया एयर होस्टेस का हत्यारोपित पति

एयर होस्टेस अनीसिया की संदिग्ध हालात में हुई मौत के मामले में उनके पति मयंक सिंघवी को मंगलवार को दिल्ली की साकेत कोर्ट में पेश किया गया। उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। वहीं, मंगलवार दोपहर अनीसिया का अंतिम संस्कार किया गया। मृतका की मां ने मयंक के माता-पिता पर भी अनीसिया को परेशान करने का आरोप लगाया है। पुलिस का कहना है कि उन्हें गिरफ्तार करने के लिए पर्याप्त सुबूत नहीं हैं।एयर होस्टेस अनीसिया की संदिग्ध हालात में हुई मौत के मामले में उनके पति मयंक सिंघवी को मंगलवार को दिल्ली की साकेत कोर्ट में पेश किया गया। उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। वहीं, मंगलवार दोपहर अनीसिया का अंतिम संस्कार किया गया। मृतका की मां ने मयंक के माता-पिता पर भी अनीसिया को परेशान करने का आरोप लगाया है। पुलिस का कहना है कि उन्हें गिरफ्तार करने के लिए पर्याप्त सुबूत नहीं हैं।  हालांकि, उनके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया गया है ताकि वह कहीं भाग न पाएं। इधर, मयंक के माता-पिता ने पुलिस जांच में शामिल न होने के लिए कोर्ट से 20 जुलाई तक का स्टे ले लिया है। वहीं, पुलिस मयंक व अनीसिया के मोबाइल का कॉल डिटेल रिकॉर्ड खंगाल रही है। अनीसिया के परिचितों का कहना है कि मयंक सिघवी एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता व वरिष्ठ वकील का भतीजा तथा सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश का भांजा है। इनका आरोप है कि शायद इसीलिए पुलिस ने मामले की जांच में शुरू में लापरवाही बरती और पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी तक नहीं करवाई गई। साथ ही अनीसिया द्वारा मयंक के खिलाफ की गई शिकायतों पर भी ध्यान नहीं दिया गया।  गौरतलब है कि शुक्रवार को दिल्ली के पंचशील पार्क इलाके में अनीसिया बत्रा का शव मिला था। वह लुफ्तहांसा एयरलाइंस में कार्यरत थीं। अनीसिया के परिजनों ने दहेज के लिए हत्या करने का शक जताया था। इसके बाद पुलिस ने दहेज प्रताड़ना की धाराओं में मामला दर्ज किया था।

हालांकि, उनके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया गया है ताकि वह कहीं भाग न पाएं। इधर, मयंक के माता-पिता ने पुलिस जांच में शामिल न होने के लिए कोर्ट से 20 जुलाई तक का स्टे ले लिया है। वहीं, पुलिस मयंक व अनीसिया के मोबाइल का कॉल डिटेल रिकॉर्ड खंगाल रही है। अनीसिया के परिचितों का कहना है कि मयंक सिघवी एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता व वरिष्ठ वकील का भतीजा तथा सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश का भांजा है। इनका आरोप है कि शायद इसीलिए पुलिस ने मामले की जांच में शुरू में लापरवाही बरती और पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी तक नहीं करवाई गई। साथ ही अनीसिया द्वारा मयंक के खिलाफ की गई शिकायतों पर भी ध्यान नहीं दिया गया।

गौरतलब है कि शुक्रवार को दिल्ली के पंचशील पार्क इलाके में अनीसिया बत्रा का शव मिला था। वह लुफ्तहांसा एयरलाइंस में कार्यरत थीं। अनीसिया के परिजनों ने दहेज के लिए हत्या करने का शक जताया था। इसके बाद पुलिस ने दहेज प्रताड़ना की धाराओं में मामला दर्ज किया था।

Loading...
IGNITED MINDS