भारत महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित देश, यहां गायें ज्यादा सुरक्षित: शिवसेना

मुंबई: मॉब लीचिंग की बढ़ती घटनाओं को लेकर शिवसेना ने भाजपा शासित केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला है. शिवसेना का कहना है कि देश में महिलाओं से ज्यादा गायें सुरक्षित हैं. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने केंद्र पर ऐसी घटनाओं को रोक पाने में अक्षम होने का आरोप लगाते हुए यहां तक कहा कि भाजपा का हिन्दुत्व का विचार फर्जी है. उन्होंने कहा गोरक्षा के नाम पर भीड़ द्वारा पीट-पीट कर की जा रही हत्याएं शर्मनाक हैं.

भारतीय जनता के मित्र

गौर तलब है कि शिवसेना महाराष्ट्र और केन्द्र में भाजपा की सहयोगी पार्टी है  बावजूद इसके पिछले कुछ समय से दोनों के बीच तल्ख होते सम्बन्ध सभी को नजर आ रहे हैं. मॉब लीचिंग से जुड़े एक सवाल पर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भाजपा को आड़े हाथ लेते हुए कहा, हम सरकार का हिस्सा जरूर हैं, लेकिन यदि कुछ गलत है तो हम निश्चित रूप से उस बारे में बात करेंगे. हम  भारतीय जनता के मित्र हैं, किसी पार्टी के नहीं. देश में भीड़ द्वारा पीट-पीट कर की जा रही हत्या की घटनाओं पर शिवसेना प्रमुख ने कहा कि भाजपा का हिन्दुत्व का विचार फर्जी है.

महिलाएं असुरक्षित हैं और गायों को बचाया जा रहा

शिवसेना के मुखपत्र सामना को दिए साक्षात्कार में ठाकरे ने कहा, इस देश में, गायें सुरक्षित हैं लेकिन महिलाएं नहीं. ठाकरे का कहना है कि गायों को बचाने के नाम पर अगर आप अपना ध्यान इस बात पर दे रहे हैं कि कोई गौमांस खा रहा है या नहीं, तो यह शर्मनाक है. यह हिन्दुत्व नहीं है. ठाकरे ने कहा, देश में जिस हिन्दुत्व के विचार का पालन किया जा रहा है, मैं उसे स्वीकार नहीं करता. हमारी महिलाएं असुरक्षित हैं और आप गायों को बचा रहे हैं.

बालासाहेब के हिंदुत्व के विचारों की जरूरत

ठाकरे ने कहा कि पिछले 25 वर्षो से शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सहयोगी हैं, क्योंकि दोनों हिंदुत्व की विचारधारा, हिंदुओं के दर्जे, राष्ट्रीय हित और देश की सुरक्षा समेत अन्य मुद्दों पर समान राय रखते हैं. लेकिन बीजेपी रास्ते से भटक रही  है, उन्होंने कहा वो अपने पिता व शिवसेना के संस्थापक दिवंगत बालासाहेब ठाकरे से अक्सर यह पूछते थे कि हिंदुत्व क्या है ? तो उनका जवाब होता था कि राष्ट्रीयता ही हमारा हिंदुत्व है. हम नहीं चाहते कि हिंदू केवल मंदिर में जाकर घंटियां बजाएं, चोटी रखें और जनेऊ धारण करें. उन्होंने कहा बालासाहेब के हिंदुत्व के विचारों को अब प्रचारित और लागू किया जाना चाहिए.

अविश्वास प्रस्ताव धोखे का परिणाम

लोकसभा में पिछले सप्ताह भाजपा के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव के दौरान शिवसेना ने सदन में अनुपस्थित रहने का निर्णय लिया था. उन्होंने कहा कि अविश्वास प्रस्ताव सत्तारूढ़ दल द्वारा लोगों के साथ किए गए धोखे का परिणाम है. ठाकरे ने कहा, सामान्य तौर पर विपक्ष अविश्वास प्रस्ताव लाता है, लेकिन यहां पहल तेलुगू देशम पार्टी ने की, जो कि सत्तारूढ़ पार्टी की सहयोगी थी. उसका विश्वास सरकार से उठ गया था.

उन्होंने कहा, हम (शिवसेना) कभी नहीं कहते कि गौवध किया जाना चाहिए. लेकिन गायों को बचाने की कोशिश में भारत महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित देश बन गया है. यह शर्मनाक है. राष्ट्रवाद पर बहस के मुद्दे पर भाजपा पर निशाना साधते हुऐ ठाकरे ने कहा कि भाजपा के पास यह फैसला करने का अधिकार नहीं है कि कौन राष्ट्रवादी हैं और कौन नहीं.

Loading...
IGNITED MINDS