इस बार भारत-बांग्लादेश के लिए काफी अहम होगा o6 दिसंबर

नई दिल्ली। इस बार का 6 दिसंबर भारत और बांग्लादेश के लिए काफी खास होने वाला है। वजह पहली बार दोनों देश इस दिन को ‘संयुक्त मैत्री दिवस’ के तौर पर मनाने जा रहे हैं। इसको लेकर भारत-बांग्लादेश ने जोर-शोर तैयारियां शुरू कर दी है। इस दिन को खास बनाने के लिए दोनों देश विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजित कर रहे हैं। जिसमें लोगो और बैकड्रॉप डिजाइनिंग प्रतियोगिता और बांग्लादेश के मुक्ति संग्राम पर आधारित पुस्तक की समीक्षा जैसे कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

पहली बार दोनों देश धूम-धाम से मनाएंगे ‘संयुक्त मैत्री दिवस

भारतीय विदेश मंत्रालय के अनुसार ‘‘लोगो और बैकड्रॉप डिजाइनिंग प्रतियोगिता के विजेताओं के नामों की घोषणा 6 दिसंबर को की जाएगी। साथ ही इस दिन बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना भारत-बांग्लादेश संबंध और मुक्ति संग्राम को लेकर वीडियो संदेश जारी करेंगी। वहीं भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला भारतीय वैश्विक परिषद में आयोजित कार्यक्रम में दोनों देशों की दोस्ती और विकास परियोजनाओं के संबंध में अपने विचार रखेंगे।

लोगो-बैकड्रॉप डिजाइनिंग प्रतियोगित और बांग्लादेश के मुक्ति संग्राम पर आधारित पुस्तक की समीक्षा जैसे कई तरह के कार्यक्रम होंगे आयोजित।

मंत्रालय के अनुसार कार्यक्रम में 1971: राइज ऑफ ए नेशन बांग्लादेश पुस्तक की समीक्षा की जाएगी और विदेशों में स्थित भारतीय दूतावास इस पुस्तक को वितरित भी करेंगे। इसके साथ ही समारोह में एक शॉर्ट फिल्म भी दिखाई जाएगी जिसको सोशल मीडिया के सभी प्लेटफॉर्म पर शेयर किया जाएगा। इसके अलावा दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो इस दिन आयोजित सभी कार्यक्रमों का प्रसारण विदेशों में करेंगे।

16 दिसंबर को ढाका जाएंगे राष्ट्रपति कोविंद

यही नहीं राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद भी 16 दिसंबर को ढाका जाएंगे। इस दौरान वह पाकिस्तान से बांग्लादेश की स्वतंत्रता को लेकर नौ महीने के तक चले मुक्ति संग्राम के स्वर्ण जयंती समारोह में हिस्सा लेंगे।

Loading...