भूकंप के बाद सुनामी ने “इंडोनेशिया” में मचाया कहर, हो चुकी है 30 कि मौत, और सैकड़ों घायल:

इंडोनेशिया में शुक्रवार को आए शक्तिशाली भूकंप के बाद सुलावेसी द्वीप पर स्थित पालू शहर में सुनामी ने भी कहर बरपाया. भूकंप के कारण कई इमारतें जमींदोज हो गईं. इसमें सैकड़ों लोगों के मरने की खबर है जबकि इंडोनेशिया के एक अस्पताल से इस हादसे में 30 लोगों की मौत की पुष्टि की गई है. इस भयंकर आपदा ने लोगों को अपने घर छोड़ने पर मजबूर कर दिया.

वहीं भूकंप के केंद्र से करीब 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित पालू शहर के एक पार्किंग रैंप की सबसे ऊपरी मंजिल से शूट किया गया जिसमें ऊंची पानी की लहरें उठती नजर आईं और तटीय इलाकों को अपनी चपेट में ले लिया. वीडियो में पानी की लहरें कई इमारतों को अपनी चपेट में लेती हुई नजर आ रही हैं. BNO न्यूज एजेंसी ने एक वीडियो जारी किया है, जिसमें जबरदस्त लहरें उठती दिख रही हैं और लोग चिल्लाते हुए इधर-उधर भाग रहे हैं.

आपदा एजेंसी के भूकंप एवं सुनामी प्रभाग के अध्यक्ष रहमत त्रियोनो ने बाद में पुष्टि की कि शहर में सुनामी की तेज लहरें आई हैं. इस भूकंप की तीव्रता इस वर्ष की शुरुआत में लोमबोक द्वीप में आए भूकंप से कहीं अधिक थी जिसमें सैकड़ों लोग मारे गए थे.

अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग ने बताया कि मध्य सुलावेसी के डोंग्गाला कस्बे में आए भूकंप का केंद्र 10 किलोमीटर की गहराई में था. एजेंसी द्वारा जारी की गई तस्वीरों में क्षतिग्रस्त हुई इमारतों को देखा गया. लोग परेशान होकर अपने घरों से बाहर निकल गए.

फेसबुक लाइव वीडियो में इलाके के कुछ हिस्सों में लंबा ट्रैफिक जाम देखा गया क्योंकि सुनामी की चेतावनी के बाद लोग ऊंची जगहों पर पहुंचने के लिए कारों, ट्रकों एवं मोटरबाइकों में जा बैठे. आपदा एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुर्वो नुगरोहो ने बताया कि तलाश एवं बचाव टीम को सबसे ज्यादा प्रभावित इलाकों की ओर भेज दिया गया.

बता दें कि इंडोनेशिया की भौगोलिक स्थिति के कारण भूकंप का खतरा हमेशा बना रहता रहता है. दिसंबर 2004 में पश्चिमी इंडोनेशिया के सुमात्रा में 9.3 तीव्रता का भूकंप आया था इसके कारण आयी सुनामी के कारण हिंद महासागर क्षेत्र के कई देशों में 2,20,000 लोग मारे गये थे.

 

Loading...
IGNITED MINDS