हमने युवाओं को हुनर निखारने का मौका दिया, पहले सिर्फ बड़े लोगों को मिलते थे लोन: PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि मुद्रा योजना से आम लोगों के हुनर को पहचान मिली है. साथ ही उन्होंने कहा कि इस योजना से भारी संख्या में युवाओं को रोजगार के मौके मिले हैं. मंगलवार को एनडीए सरकार के 4 साल पूरा होने के बाद प्रधानमंत्री ने मुद्रा योजना का रिपोर्ट कार्ड पेश किया. इस मौके पर उन्होंने नमो एप के जरिए से इस लोन का लाभ उठाने वाले लोगों से बातचीत भी की.

पीएम मोदी के मुताबिक मुद्रा योजना के तहत अब तक 12 करोड़ लोगों में से 55 फीसदी लोन देश के एससी, एसटी, ओबीसी और महिलाओं को मिला है. उन्होंने कहा ”मुद्रा योजना एक ऐसी योजना है जिसने बिना भेद भाव से पिछड़े समाज को आर्थिक और सामाजिक बल देने का काम सफलता पूर्वक किया है.

मुद्रा योजना ने सामान्य व्यक्ति के हुनर को निखारने का काम किया, उस हुनर को पहचान दिलाने और लोगों को सशक्त बनाने का काम किया है”पीएम मोदी ने कहा कि उनकी सरकार आम जनता के बारे में सोचती है. जबकि पहले की सरकारें सिर्फ बड़े उद्योगपतियों की मदद करते थे. उन्होंने कहा, ”इस देश में एक ऐसा समय था,जब वित्त मंत्री खुद फोन कर के बड़े उद्योगपतियों को लोन दिलवाने के लिये क्या कुछ नही करते थे, दूसरी तरफ एक छोटा उद्यमी साहूकारों का ब्याज देने के चक्कर में पूरी जिंदगी ब्याज के कर्ज में डूब जाता था”.

प्रधानमंत्री मोदी ने मुद्रा योजना की शुरुआत साल 2015 में की थी. हाल के दिनों में इस योजना से युवाओं को अपना बिज़नेस शुरू करने में काफी मदद मिली है. पीएम मोदी के मुताबिक इस योजना से लोग न सिर्फ अपना रोज़गार शुरू कर रहे हैं बल्कि लोग दूसरों को भी रोजगार का मौका दे रहे हैं. उन्होंने कहा, ”हमने हमारे छोटे उद्यमियों पर भरोसा किया. मुद्रा योजना के तहत उनको लोन दिया गया ताकि वो अपना कारोबार कर सके. मुद्रा योजना से न केवल स्वरोज़गार के अवसर बने बल्कि ये अपने आप में जॉब-मल्टीप्लायर के रूप में काम कर रहा है.” अपने संबोधन के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने मुद्रा स्कीम का लाभ उठाने वाले कुछ लोगों के अनुभव भी सुने. उन्होंने मुद्रा स्कीम के तहत लोन मिलने से पहले और उसके बाद के अनुभव लोगों से जानने की कोशिश की.

क्या है मुद्रा योजना?

मोदी सरकार युवाओं को बिज़नेस शुरू करने के लिए मुद्रा योजना के तहत लोन देती है. इस योजना की शुरुआत 8 अप्रैल 2015 को नरेंद्र मोदी ने की थी. इसमें छोटे कारोबारियों को 10 लाख रुपए तक का कर्ज दिया जाता है. सरकार का दावा है कि इस योजना के तहत अभी तक 12 करोड़ लोगों को लाभ दिया जा चुका है.

Loading...
IGNITED MINDS