इजरायली मिसाइलों का सीरिया पर हमला, 8 ईरानियों समेत 15 की मौत

सीरिया में एक संदिग्ध इजरायली हमले में 15 विदेशी समर्थक लड़ाकों की मौत हुई है, जिसमें 8 ईरानी भी शामिल हैं. दावा किया जा रहा है कि यह हमला ईरान के एलिट रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स के वेपन डिपो पर हुआ.  मानव अधिकार निगरानी समूह के ब्रिटेन स्थित सीरियाई अब्ज़र्वटोरी फॉर ह्यूमन राइट्स ग्रुप ने कहा कि यह हमला देर मंगलवार को दमिश्क के दक्षिण में किस्वे के क्षेत्र पर किया गया. सीरिया की आधिकारिक समाचार एजेंसी SANA ने कहा कि किस्वे की ओर दागी गईं मिसाइलों को सेना ने रास्ते में ही रोक दिया.

SANA ने इलाके में दागी गई मिसाइल की तस्वीरें भी प्रसारित की है. सीरियाई अब्ज़र्वटोरी फॉर ह्यूमन राइट्स ग्रुप  के प्रमुख रमी अब्देल रहमान ने कहा कि, ‘इस हमले में 15 सत्ता के समर्थक लड़ाके मारे गए हैं, जिसमें 8 ईरान के रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स शामिल हैं. मारे गए अन्य लोग सीरियाई नागरिक नहीं हैं.’

मेडिकल सूत्र के हवाले से कहा है कि इजरायली अतिक्रमण के परिणामस्वरूप इस हमले में दो नागरिक, दमिश्क से जुड़े हाइवे पर मारे गए हैं. मिली जानकारी के अनुसार मंगलवार देर रात, गोलान हाइट्स के इजरायली कब्जे वाले वर्ग को सीरिया में ‘ईरानी बलों द्वारा अनियमित गतिविधि’ के कारण हाई अलर्ट पर रखा गया था.

यह पहली बार नहीं है कि किस्वे को निशाना बनाया गया है. दिसंबर में, इजरायल ने हथियारों के डिपो सहित दमिश्क के दक्षिण में क्षेत्र में सैन्य ठिकानों पर हमला किया था. 2011 में सीरिया के गृहयुद्ध की शुरुआत के बाद से, इजरायल बार-बार सीरियाई सेना के ठिकानों को निशाना बनाने और लेबनानी हेज़बुल्ला आंदोलन को समर्थन दे रहा है.

ह्यूमन राइट्स ग्रुप ने कहा कि 29 अप्रैल को मिसाइल हमले में ‘संभवतः इजरायली’, सत्ता की सेना के ठिकानों पर गोलीबारी की गई जिसमें कम से कम 26 ईरानी लड़ाकों की मौत हो गई. 9 अप्रैल को, मिसाइलों ने होम्स  प्रांत  में टी -4 एयर बेस को निशाना बनाया, जिसमें सीरियाई सरकार द्वारा किए गए कथित रासायनिक हमले के दो दिन बाद सात ईरानियों सहित 14 लड़ाकों की मौत हो गई. दमिश्क ने इजरायल पर हमला करने का आरोप लगाया. इज़राइल और सीरिया आधिकारिक तौर पर  अभी भी युद्ध की स्थिति में  हैं.

Loading...
IGNITED MINDS