दिल्ली: एक ही परिवार में 11 मौतें और 11 पाइपों का रहस्य

दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार के सभी 11 सदस्यों के रहस्यमयी मौतों की गुत्थी तंत्र-मंत्र साधना में जाकर उलझ गई है. पुलिस को घर के अंदर बने मंदिर के बगल में रखा एक रजिस्टर मिला है, जिसमें धर्म, मोक्ष, आध्यात्म और तंत्र-मंत्र से जुड़ी रहस्यमयी बातें लिखी हैं. इस बीच जांच टीम में घर में एक अजीबोगरीब बात नोटिस की है. घर के बाहर पानी की 11 पाइपें निकली हुई हैं, जिनमें से 7 पाइपों को मुंह जहां नीचे की ओर हैं, वहीं 4 पाइपों के मुंह ऊपर की ओर.दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार के सभी 11 सदस्यों के रहस्यमयी मौतों की गुत्थी तंत्र-मंत्र साधना में जाकर उलझ गई है. पुलिस को घर के अंदर बने मंदिर के बगल में रखा एक रजिस्टर मिला है, जिसमें धर्म, मोक्ष, आध्यात्म और तंत्र-मंत्र से जुड़ी रहस्यमयी बातें लिखी हैं. इस बीच जांच टीम में घर में एक अजीबोगरीब बात नोटिस की है. घर के बाहर पानी की 11 पाइपें निकली हुई हैं, जिनमें से 7 पाइपों को मुंह जहां नीचे की ओर हैं, वहीं 4 पाइपों के मुंह ऊपर की ओर.  बता दें कि मृत मिले 11 सदस्यों में 7 महिलाएं थीं और 4 पुरुष सदस्य थे. हैरानी वाली बात यह है कि घर के अंदर से मिले रजिस्टर में मौत की तारीख और मौत का तरीका भी लिखा हुआ है. सबसे बड़ी बात है कि रजिस्टर में दर्ज तारीख यानी 30 जून की रात ही यह कांड हुआ और मौतों का तरीका भी वही है.  इस शख्स की लिखावट से मिल रही है रजिस्टर का हैंडराइटिंग  पुलिस को शक है कि रजिस्टर में जो लिखावट है वह बुजुर्ग महिला नारायणी के बेटे ललित की लग रही है. साधना के लिए ललित ने अपने भाई भूपी ने मुख्य योजना बनाई थी. बाद में पूरे परिवार को शामिल कर लिया गया था. रजिस्टर में यह भी लिखा गया है कि रात एक बजे के बाद यह साधना करनी है. इस साधना को करने से पहले नहाना नहीं है. केवल हाथ और मुंह धोकर बैठना होगा.  फंदे पर इसलिए लटकी नहीं मिली बुजुर्ग महिला  चौंकाने वाली बात तो यह कि घर के सारे मोबाइल और टैब मंदिर के पास एक पॉलिथीन में बंधे मिले. सभी साइलेंट मोड पर थे. लिखा है कि सभी को अपने-अपने हाथ-पैर खुद बांधने होंगे. हां, हाथ-पैर खोलने के लिए हम लोग एक-दूसरे की मदद कर सकते हैं.  रजिस्टर में यह भी लिखा गया है कि माताजी बहुत बुजुर्ग हैं. इसलिए वह साधना करने के लिए स्टूल पर नहीं चढ़ पाएंगी और ना ही बहुत अधिक देर तक उस पर खड़ी रह पाएंगी. ऐसे में उन्हें दूसरे कमरे में साधना करानी होगी. साधना के वक्त किसी के भी चेहरे पर तनाव या दुख नहीं झलकना चाहिए.  रजिस्टर में इस बात का भी जिक्र है कि सभी को कौन-कौन सी चुन्नी और साड़ी इस्तेमाल करनी होगी. इसके साथ ही रजिस्टर में वटवृक्ष और बड़वृक्ष की पूजा करने जैसी बात भी लिखी गई है.

बता दें कि मृत मिले 11 सदस्यों में 7 महिलाएं थीं और 4 पुरुष सदस्य थे. हैरानी वाली बात यह है कि घर के अंदर से मिले रजिस्टर में मौत की तारीख और मौत का तरीका भी लिखा हुआ है. सबसे बड़ी बात है कि रजिस्टर में दर्ज तारीख यानी 30 जून की रात ही यह कांड हुआ और मौतों का तरीका भी वही है.

इस शख्स की लिखावट से मिल रही है रजिस्टर का हैंडराइटिंग

पुलिस को शक है कि रजिस्टर में जो लिखावट है वह बुजुर्ग महिला नारायणी के बेटे ललित की लग रही है. साधना के लिए ललित ने अपने भाई भूपी ने मुख्य योजना बनाई थी. बाद में पूरे परिवार को शामिल कर लिया गया था. रजिस्टर में यह भी लिखा गया है कि रात एक बजे के बाद यह साधना करनी है. इस साधना को करने से पहले नहाना नहीं है. केवल हाथ और मुंह धोकर बैठना होगा.

फंदे पर इसलिए लटकी नहीं मिली बुजुर्ग महिला

चौंकाने वाली बात तो यह कि घर के सारे मोबाइल और टैब मंदिर के पास एक पॉलिथीन में बंधे मिले. सभी साइलेंट मोड पर थे. लिखा है कि सभी को अपने-अपने हाथ-पैर खुद बांधने होंगे. हां, हाथ-पैर खोलने के लिए हम लोग एक-दूसरे की मदद कर सकते हैं.

रजिस्टर में यह भी लिखा गया है कि माताजी बहुत बुजुर्ग हैं. इसलिए वह साधना करने के लिए स्टूल पर नहीं चढ़ पाएंगी और ना ही बहुत अधिक देर तक उस पर खड़ी रह पाएंगी. ऐसे में उन्हें दूसरे कमरे में साधना करानी होगी. साधना के वक्त किसी के भी चेहरे पर तनाव या दुख नहीं झलकना चाहिए.

रजिस्टर में इस बात का भी जिक्र है कि सभी को कौन-कौन सी चुन्नी और साड़ी इस्तेमाल करनी होगी. इसके साथ ही रजिस्टर में वटवृक्ष और बड़वृक्ष की पूजा करने जैसी बात भी लिखी गई है.

Loading...
IGNITED MINDS