देश का सबसे बड़ा ट्रेड यूनियन संगठन है बीएमएस, केशरिया हमारी पहचान : अनुपम

लखनऊ। भारतीय मजबूर संघ(बीएमएस) के को-ऑपरेटिव बैंक इम्प्लाइज यूनियन उप्र की 28 वीं साधारण बैठक में मुख्य अतिथि भामसं के क्षेत्रीय संगठन मंत्री (दिल्ली, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश) अनुपम ने कहा कि हम बड़े वैचारिक आंदोलन है। हमें भारत माता की जय करने में शर्म नहीं आनी चाहिए।

सहकारिता भवन के पीसीयू सभागार में मुख्य अतिथि अनुपम ने कहा कि आज ख़ुशी की बात है यहां यशस्वी कार्यक्रम सम्पादित कर रहे हैं। यहां आये प्रतिनिधि उल्लास से भरे हुए हैं। पुराने समय से हम भारतीय मजदूर संघ से सम्बद्ध है। 700 यूनियनें इसी तरह सम्बद्ध है। जब गुरुजी को यह ध्यान आया कि श्रमिक क्षेत्र में कौन सा यूनियन है तो वह है लाल झण्डा। ट्रेड यूनियन में राष्ट्रीय विचारधारा होना चाहिए, इस उद्देश्य से गुरूजी ने दत्तोपंत ठेगड़े जी को भेजा। शून्य से चला यूनियन आज देश का सबसे बड़ा ट्रेड यूनियन संगठन है। केशरिया हमारी पहचान है।

अनुपम ने कहा कि जब गरम दल-नरम दल चल रहे थे तो भक्ति आंदोलन भी चल रहे थे। हम भी एक वैचारिक आंदोलन है। हमारी मांग नेशन फर्स्ट है। आपको देशभक्त बनाना हमारा कार्य है। यहां भीड़ नहीं है, हम संगठन हैं। तर्कपूर्ण ढंग से मजबूती से रहना है। संघ में जा रहे है, तो संघ आपको आना चाहिये। आप के अनुसार संगठन नहीं चलेगा, आपको चलना पड़ेगा। हमें संगठन का झण्डा ऊंचा करना है।

उन्होंने कहा कि भारतीय मजदूर संघ के बारे में पढ़ना जरूरी है। नए युवा कार्यकर्ताओं को आगे आकर अपनी जिम्मेदारी संभालनी चाहिए। साथ ही महिला शक्ति को भी साथ लेकर चलना है। एक अंतिम पंक्ति में जब कहे जो दुनिया कल बिना झुके ना रहेगी।

इससे पूर्व मुख्य अतिथि अनुपम ने सीबीईयू की वेबसाइट का उद्घाटन किया गया। महामंत्री सुधीर ने वेबसाइट के बारे में जानकारी दी।

बैठक में मुख्य रूप से संस्थापक एमपी सिंह, संरक्षक आरडी अवस्थी, राजेश्वर सिंह, बीएन चौबे, महेश प्रताप सिंह, डॉ. निर्दोष मौजूद रहें। बैठक का संचालन यूनियन के महामंत्री सुधीर सिंह और अध्यक्षता शेषनाथ यादव ने किया।

Loading...