इस वर्ष सीएमएस के तीन और छात्र बने आईएएस

लखनऊ। विगत वर्षों की भाँति इस वर्ष भी सिटी मोन्टेसरी स्कूल के तीन छात्रों ने भारतीय प्रशासनिक सेवा (आई.ए.एस.) में चयनित होकर विद्यालय का नाम पूरे देश में गौरवान्वित किया है। इन छात्रों में सी.एम.एस. महानगर कैम्पस की छात्रा आयुषी सिंह (86वीं रैंक), सी.एम.एस. अलींगज (प्रथम कैम्पस) की छात्रा कृति पाण्डेय (389वीं रैंक) एवं सी.एम.एस. राजाजीपुरम (प्रथम कैम्पस) के छात्र सिद्धार्थ गौतम (538वीं रैंक) शामिल हैं। सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी हरि ओम शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. के इन सभी होनहार छात्रों की अभूतपूर्व सफलता पर पूरे सी.एम.एस. परिवार को गर्व है, जिन्होंने अपनी मेधा, प्रतिभा व लगन से सी.एम.एस. के स्वर्णिम इतिहास में नया कीर्तिमान जोड़ा है एवं पूरे देश में सी.एम.एस. का नाम रोशन किया है। श्री शर्मा ने बताया कि इन तीनों छात्रों ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता एवं शिक्षकों के अलावा सी.एम.एस. के शैक्षिक वातावरण को दिया है। छात्रों का कहना है कि सी.एम.एस. के ईश्वरीय वातावरण में समाजसेवा भी भावना समाहित है, जिसके कारण हमें इस परीक्षा में चयनित होने की लालसा हुई। बच्चों को संदेश देते हुए इन छात्रों ने कहा कि असफलता से विचलित नहीं होना चाहिए और सफलता के लिए निरन्तर प्रयास करते रहना चाहिए। एक दिन आपको सफलता अवश्य मिलेगी।

श्री शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने सी.एम.एस. के इन होनहार छात्रों की उपलब्धियों पर प्रसन्नता जाहिर करते हुए विश्वास व्यक्त किया है कि ये मेधावी छात्र सी.एम.एस. की फिलासफी के अनुसार वसुधैव कुटुम्बकम की भावना को अपने कर्म क्षेत्र में सेवा काल के दौरान सारे विश्व में फैलायेंगे और सम्पूर्ण विश्व को एकता के सूत्र में पिरोने में अपना योगदान देंगे। डा. गाँधी ने इस उपलब्धि पर सी.एम.एस. के कर्तव्यपरायण शिक्षकों को बधाई देते हुए कहा कि सी.एम.एस. के इन शिक्षकों के द्वारा ही इन मेधावी छात्रों की नींव मजबूत हुई है। यह उसी का प्रतिफल है कि सी.एम.एस. छात्र प्रतिवर्ष आई.ए.एस., इन्जीनियरिंग, मेडिकल व अन्य व्यावसायिक सेवाओं में भारी संख्या में चयनित होकर विद्यालय का गौरव बढ़ा रहे हैं।

Loading...
IGNITED MINDS