किरमानी ने कमेंट्री करके बढ़ाया खिलाडिय़ों का हौसला

1983 के विश्वकप फाइनल के अनुभव किये साझा
खास मेहमान गार्ड ऑफ ऑनर से किये गये सम्मानित

लखनऊ : सोमवार को शिया पीजी कालेज का मैंदान युवा खिलाडिय़ों के लिए खास रहा। शहर के विभिन्न कॉलेज की टीमें एक पूर्व अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टार को कमेंट्री करते देख फूले नहीं समा रहे थे। मौका था शिया कालेज के जन्म शताब्दी के मौके पर आयोजित खतीब-ए-अकबर मौलाना मिर्जा मोहम्मद अतहर अन्तरमहाविद्यालयीय क्रिकेट टूर्नामेंट का। सुबह मैच शुरू होने से काफी पहले कॉलेज की टीेमें फिजिकल कर रहीं थी। मौके पर ही टूर्नामेंट के खास मेहमान आज दूसरे दिन अपने समय से मैंदान पर पहुंच गये। हालांकि सैयद किरमानी ने मैंदान में जाने के बजाया कमेंट्री की जिम्मेदारी संभाल ली।

टीमें जब मैंदान पर उतरी तो उनमें अलग हौसला दिखायी दे रहा था। पूर्व अन्तर्राराष्ट्रीय खिलाड़ी सैयद किरमानी ने कमेंट्री के दौरान न सिर्फ खिलाडिय़ों का हौसला बढ़ाया बल्कि उन्होंने 1983 विश्वकप में भारत की रोमांचक जीत के बारे में युवा खिलाडिय़ों को बताया। उन्होंने 1983 विश्वकप के फाइनल मैच में कप्तान कपिलदेव के साथ अपनी भूमिका का भी जिक्र किया। कमेन्ट्री के दौरान उन्होंने बताया कि मुश्किल घड़ी में धैर्य की वजह से हमें पहली बार भारत के लिए विश्वकप जीतने में सफलता मिल सकी।

वहीं कमेंट्री के दौरान सैयद किरमानी ने शिया पीजी कॉलेज के मैंदान पर गेंदबाज की हर बॉल और बल्लेबाज की हर शॉट को बाखूबी कमेंट्री के माध्यम से बताया। इस मौके पर मौजूद खेल प्रेमियों को हौसला भी बढ़ाने में सैयद किरमानी नहीं चूके। इससे पूर्व टूनॉमेंट के दूसरे दिन खास मेहमान रहे भारतीय जनता पार्टी के नगर अध्यक्ष मुकेश शर्मा के साथ सैयद किरमानी को गार्ड ऑफ ऑनर से सम्मानित किया। शिया पीजी कालेज प्रशासन की मानें तो टूर्नामेंट के सफल आयोजन में कॉलेज के निदेशक खेल जय सिंह और एनसीसीए एनएसएस और खेल सहायक अजीत सिंह का बढ़ा योगदान है।

इस्लामिया की जीत में विकेटकीपर की रही अहम भूमिका

केकेवी के अरबाज व इस्लामिया के साहिल मैन ऑफ द मैच

लखनऊ : मैन ऑफ द मैच अरबाज के हरफनमौला प्रदर्शन महात्वपूर्ण पांच विकेट की बदौलत केकेवी ने और मोहम्मद साहिल के उम्दा खेल 41 रन की बदौलत इस्लामिया ने शानदार जीत हासिल कर खतीब-ए-अकबर मौलाना मिर्जा मोहम्मद अतहर क्रिकेट टूर्नामेंट के अगले दौर में जगह पक्की कर ली। गौरतलब है कि इस्लामिया की जीत में विकेटकीपर की अहम भूमिका रही। शिया पीजी कालेज मैंदान पर खेले गये नॉक आऊट मुकाबलों में मुमताज पीजी कालेज ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। निमत्रण पर केकेवी की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 13.1 ओवर में 51 रन बनाकर आलआउट हो गयी। मोहम्मद साहिल ने ृ2 रन और अर्पित यादव ने 11 रन का योगदान दिया। यश चौधरी को चार विकेट और अभिषेक को तीन विकेट की सफलता मिली।

जवाब में उतरी मुमताज पीजी कालेज की टीम ने लचर प्रदर्शन दिखाते हुए मात्र 12.4 ओवर में मात्र 31 रन के स्कोर पर ही सिमट गया। अभिरूेक शर्मा ने 7 रन और आकाश कश्यप ने 6 रन का योगदान दिया। अरबाज ने धारदार गेंदबाजी करते हुए पांच विकेट की सफलता हासिल की। क्वार्टर फाइनल का दूसरा मैच इस्लामिया कालेज और सुभाष कालेज के बीच खेला गया। इस्लामिया कालेज ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 13.2 ओवर में 99 रन के स्कोर पर सभी विकेट गवां दिये। मोहम्म्द साहिल ने सर्वाधिक 41 रन जोड़े। दिशांत वर्मा ने 18 रन बनाये। नीरज को तीन विकेट की सफलता मिली। जवाब में सुभाष कालेज की टीम 15 ओवर में मात्र 88 रन के सस्ते स्कोर पर ही सिमट गयी। कार्तिकेय पाल ने 31 रन और रमन सिंह ने 18 रन जोड़े। आदिल खान को तीन विकेट की उम्दा सफलता मिली। वहीं इस्लामिया की जीत में विकेट कीपर ने अहम भूमिका निभाते हुए अतिरिक्त रनों को रोकने के अलावा मजबूत बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखायी।

Loading...
IGNITED MINDS