बोले शिवपाल, जिसे बहुत जल्दी हो सरयू उस पार बनवा ले मंदिर!

कहा- मुद्दों व जनाक्रोश पर केन्द्रित होगी 9 दिसंबर की रैली

लखनऊ : बुधवार को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के संस्थापक शिवपाल सिंह यादव ने पत्रकारों के कुछ सवालों के जवाब में कहा कि 9 दिसंबर को होने वाली महारैली मुद्दों व जन आक्रोश पर केन्द्रित होगी। यह रैली किसी व्यक्ति विशेष की रैली नहीं होगी, यह रैली जन साधारण के आक्रोश को स्वर देगी, यह रैली जन आकांक्षा को मुखर व मूर्त राजनीतिक सन्दर्भ देगी। उन्होंने आगे कहा कि देश के सामने, प्रदेश के सामने, नौजवानों के सामने, किसानों के सामने जो चुनौती खड़ी है वह ज्यादा महत्वपूर्ण है। यह रैली आम लोगों, गरीब, किसान, मजदूर के आक्रोश को स्वर देने के लिए आयोजित की गई है।

मीडिया ने जब अयोध्या मामले पर शिवपाल यादव से सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि हमारा बहुत स्पष्ट मानना है कि किसी भी कीमत पर विवादित भूमि पर सर्वोच्च न्यायालय के आदेश की अवहेलना नहीं होनी चाहिए क्योंकि अब तक बातचीत और आपसी सहमति का कोई नतीजा नहीं निकला, ऐसे में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का इंतजार होना चाहिए। सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के पहले विवादित भूमि पर मंदिर का निर्माण नहीं होना चाहिए। जिसे बहुत जल्दी हो, वह सरयू उस पार मंदिर निर्माण करा ले।

अपनी रैली पर और रोशनी डालते हुए उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में जनता में सरकार के खिलाफ, महंगाई के खिलाफ, बेरोजगारी के खिलाफ जो आक्रोश है, यह रैली उसपर है। वर्तमान बदलते संदर्भ में गांव, देश व समाज के हालात बदल गए हैं। तीन दशक पहले जो चुनौतियां थी, तब और अब के हालात में बहुत बदलाव आया है । ऐसे में सामाजिक न्याय की लड़ाई को नए संदर्भ में देखना होगा। हम सामाजिक विकास में पिछड़ गए तमाम जातीय समूहों और वर्गो को अपने साथ जोड़ना चाहते हैं। समाजवाद और सेकुलरिज्म हमारी पार्टी के दो अभिन्न हिस्से हैं। हम किसानों, नौजवानों, महिलाओं व छात्रों को केंद्र में रखकर समाज, राज्य व राष्ट्र के विकास की रणनीति पर काम करेंगे। सतत और रोजगारपूर्ण विकास हमारा मुख्य एजेंडा है।

Loading...
IGNITED MINDS